भारतीय वैज्ञानिकों ने बनाई पतली सुई, अब इंजेक्शन लगते समय नहीं होगा दर्द, इंजेक्शन के दर्द से छुटकारा पाने के 6 उपाय

Share

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) खड़गपुर के अनुसंधानकर्ताओं ने एक सूक्ष्म सुई विकसित की है जिसके जरिए बिना किसी दर्द के दवा दी जा सकती है । संस्थान के इलेक्ट्रॉनिक्स और इलेक्ट्रिकल कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग विभाग ने सुई के आकार के साथ ही इसकी मोटाई को भी घटा दिया है और इसकी क्षमता को बढ़ा दिया है जिससे सुई इस्तेमाल के समय टूटेगी नहीं।

कोविड-19 टीकाकरण में भी इसका इस्तेमाल
बयान में कहा गया कि इन्सुलिन लेने के अलावा भविष्य में कोविड-19 टीकाकरण में भी इसका इस्तेमाल हो सकेगा। अग्रणी अनुसंधानकर्ता प्रोफेसर तरुण कांति भट्टाचार्य ने कहा, ‘इन्सुलिन लेने या बीमारियों की दवाओं को देने में इसका इस्तेमाल हो सकेगा। कैंसर के कुछ प्रकार और कोविड-19 का टीका देने में भी इसका उपयोग हो सकेगा।’

दर्द भी नहीं होगा और दवा देने में भी आसानी
वर्तमान में इस्तेमाल होने वाली सिरिंज की तुलना में सूक्ष्म सुई दवा देने के तरीके में व्यापक बदलाव ला सकती है। इससे दर्द भी नहीं होगा और दवा देने में आसानी होगी। चिकित्सा प्रावधानों के तहत जानवरों को दवा देने में इसका सफल परीक्षण हो चुका है।

बयान में कहा गया कि इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) तथा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार ने इस नवाचार के लिए अनुसंधान को सहायता प्रदान की है।

इंजेक्शन के दर्द से छुटकारा पाने के 6 बेहतरीन उपाय
बर्फ की मसाज
शिशु में टीके लगने के बाद उस जगह पर न केवल दर्द होता है बल्कि सूजन और लालिमा जैसी समस्या भी आ जाती है। शुई का इफ़ेक्ट इतना होता है कि बच्चे को बुखार तक आ जाती है। ऐसे में, इसके दर्द से निपटने के लिए आप टीके वाली जगह पर बर्फ की मसाज दें, इससे शिशु को काफी आराम मिलेगा। ध्यान रहे आप डायरेक्ट बर्फ का इस्तेमाल न करें बल्कि किसी सूती के कपड़े में बर्फ को डाल कर इसकी सेंक दें। आप खुद देखेंगी कि आपका बच्चा बहुत आराम महसूस करता है। हालाँकि, आप बर्फ की सेंक दिन भर में तीन से चार बार दे सकती हैं।

स्तनपान कराएं
टीके लगने के बाद होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग कराएं। आप अपने शिशु को स्तनपान करवाते ही टीके लगवाएं इससे उसे काफी आराम मिलेगा। क्योंकि, शायद आपको पता हो कि स्तनपान दर्द से राहत देने का एक प्रभावशाली तरीका है।

शिशु को हाथ-पैर पटकने दें
कुछ मां को लगता है कि टीके लगने के बाद शिशु को चुपचाप आराम से रहना चाहिए, बल्कि ऐसा नहीं है। क्योंकि, इस समय शिशु जितना अपना हाँथ-पैर यानि कि बॉडी का मूवमेंट करेगा उतना ही जल्दी इस समस्या से निजात मिलेगी। इसके अलावा, यदि आपका बच्चा चलता है तो आप उसे सुई लगने के बाद चलने के लिए जिद न करें क्योंकि इससे उसका दर्द बढ़ सकता है। क्योंकि, ज्यादातर वैक्सीनेशन जांघ के ऊपरी हिस्से में लगते हैं जिससे कि शिशु को अधिक दर्द होता है।

शिशु का ध्यान दूसरी ओर लगाएं
इस समय शिशु रोने के अलावा कुछ नहीं करते हैं, और ऐसे में वह माँ का दूध भी नहीं पीते हैं। इसलिए, कोशिश करें कि आप शिशु का ध्यान दूसरी ओर भटकाएं। आप उन्हें बाहर घुमाएं, उनकी पीठ सहलाएं आदि जैसी चीज़ें करें जिससे कि उन्हें आराम मिल सके।

पैरासिटामोल की खुराक दें
टीके लगने के बाद शिशु में बुखार का आना आम बात है ऐसे में इस समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए आप उन्हें पैरासिटामोल सिरप की एक खुराक दे सकती हैं। यह दर्द को कम करने के साथ-साथ बुखार से भी राहत देने का काम करता है। हालाँकि, यह दवा आप डॉक्टर की परामर्श से दें।


Share

NNB Live Bihar

NNBLiveBihar डॉट कॉम न्यूज पोर्टल की शुरुआत बिहार से हुई थी। अब इसका विस्तार पूरे बिहार में किया जा रहा है। इस न्यूज पोर्टल के एडिटर व फाउंडर NNBLivebihar के सभी टीम है। साथ ही वे इस न्यूज पोर्टल के मालिक भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!