आधी रात को पटना पहुंचे सिटी एसपी विनय तिवारी, डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने किया रिसीव

Share

 

मुंबई में क्वारंटाइन (Quarantine) किये गए पटना के सिटी एसपी सेंट्रल विनय तिवारी (Vinay Tiwari) शुक्रवार की देर रात पटना (Patna) पहुंच गए. शुक्रवार को अहले सुबह ही बीएमसी ने उन्हें क्वारंटाइन के 14 दिन पूरा होने से पहले ही मुक्त कर दिया.

विनय तिवारी को रिसीव करने के लिए खुद डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (DGP Gupteshwar Pandey) पटना एयरपोर्ट पहुंचे थे. मुंबई में बिहार पुलिस की टीम ने जो जांच और कार्रवाई की उससे डीजीपी काफी खुश हैं. वहीं, डीजीपी को एयरपोर्ट पर देख आईपीएस विनय तिवारी ने खुशी जाहिर की. उन्होंने कहा कि वो हमारे अभिभावक हैं इसीलिए वो लेने आये हैं.

पटना एयरपोर्ट (Patna Airport) पर उतरने के बाद आईपीएस विनय तिवारी ने कहा कि बीएमसी ने मुझे नहीं बल्कि सिस्टम को क्वारंटाइन किया था. एक सवाल का जवाब देते हुए विनय तिवारी ने खुलकर कहा कि बीएमसी की हरकतों से उनकी जांच प्रभावित हुई.

अगर बीएमसी उन्हें क्वारंटाइन नहीं करता तो उन 4 से 5 दिनों में एक्टर सुशांत सिंह राजपूत के मामले में जांच काफी आगे बढ़ गई होती. कई लोगों से पूछताछ होती. कुछ और नए सबूत जुटाए जाते. लेकिन मुंबई पुलिस और बीएमसी ने बिहार पुलिस की टीम के रास्ते में काफी रोड़ें अटकाए जिसे सबने देखा है.

गेस्ट हाउस में जबरन क्वारंटीन किया गया था

गौरतलब है कि आईपीएस विनय तिवारी को मुंबई के गोरेगांव में स्थित गेस्ट हाउस में जबरन क्वारंटाइन किया गया था. पूरे पांच दिन वो क्वारंटाइन में रहे. इस पर बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कड़ी आपत्ति जताई थी.

पहले पटना ने आईजी संजय सिंह और फिर एडीजी मुख्यालय जितेंद्र कुमार ने बीएमसी को प्रोटेस्ट लेटर लिखा था. इधर पटना सेंट्रल के सिटी एसपी विनय तिवारी से पटना एयरपोर्ट पर मुलाकात करने के बाद DGP गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि मुम्बई में जो कुछ भी हुआ वो सारी बातें विनय तिवारी ने मुझे बताई हैं. उन्होंने कहा कि हमारी टीम को जितना वक़्त मिला उस समय में हमारी टीम ने बेहतर काम किया है.


Share

Vikash Mishra

NNBLiveBihar डॉट कॉम न्यूज पोर्टल की शुरुआत बिहार से हुई थी। अब इसका विस्तार पूरे बिहार में किया जा रहा है। इस न्यूज पोर्टल के एडिटर व फाउंडर NNBLivebihar के सभी टीम है। साथ ही वे इस न्यूज पोर्टल के मालिक भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!