मुझे हँसी आती है जब लोग दो दो रूपये के लिए मोल भाव करते हैं

Share

मुझे हँसी आती है जब लोग दो दो रूपये के लिए मोल भाव करते हैं। कई बड़ी महंगी कारों में आते हैं, ब्रांडेड कपड़े पहने हुए। एक दर्जन फल की कीमत 10 से 20 रुपए कम करने पर दबाव डालते हैं” एक फल विक्रेता ने मुस्कुराते हुए कहा। मुझे आश्चर्य होता है कि ये पैसे बचा कर वो इससे क्या करते हैं। क्या उन्हें कभी इस बात का एहसास होता है कि मुझे उस पैसे की, उनसे ज़्यादा ज़रूरत है? सामान्य परिस्थितियों में, यह राशि मेरे घर जाने का किराया होगी। या मेरे परिवार के लिए एक वक़्त का भोजन।

यह लेख सोचने पर मजबूर करता हैं। क्या हम कभी बड़े रेस्तरां में भोजन करते समय मोल भाव करते हैं? या मॉल में डिज़ाइनर कपडे खरीदते वक़्त??? लेकिन एक सब्ज़ी वाले के साथ हरा धनिया और मिर्च के लिए निश्चित रूप से ऐसा करते हैं?

मुझे ऐसा लगता है कि एक आम नागरिक की, गरीब किसान के सम्मान और कड़ी मेहनत की तरफ, अपनी मूल मानसिकता को बदलने की सख्त जरूरत है। हम सभी जानते हैं कि कोरोना वायरस महामारी को नियंत्रित करने के लिए अचानक लॉक डाउन केवल हमारे किसानों के अथक और निस्वार्थ परिश्रम के कारण ही संभव हो पाई है।

आत्म निर्भरता पर हमारे किसानो का भी उतना ही हक़ है, जितना हमारा!!


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!