कोरोना महामारी के बीच आने वाला है चक्रवाती तूफान Amphan, कई राज्यों में अलर्ट, तेज हवाओं के साथ हो सकती है भारी बारिश

Share

नई दिल्ली: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने दक्षिण-पश्चिम और उससे सटे पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी में 16 मई की शाम को एक चक्रवाती तूफान के तट से टकराने की भविष्यवाणी की है। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। अगले 12 घंटों में यह डिप्रेशन की स्थिति में आएगा। जिसके बाद 16 मई की शाम को इसके चक्रवाती तूफान का रूप लेने की आशंका है। वैज्ञानिकों ने इस तूफान का नाम अम्फान (Amphan) दिया है, चक्रवाती तूफान का नामकरण थाईलैंड में हुआ है।

आंध्र सहित 8 राज्यों में अलर्ट जारीmc

मौसम विभाग और सरकार की विभिन्न एजेंसियों ने कुल आठ राज्यों में अलर्ट जारी किया है। मछुआरों को बंगाल की खाड़ी के दक्षिण और समुद्र के दक्षिण में नहीं जाने की हिदायत दी गई है। साथ ही जो मछुआरे समुंद्र में हैं उन्हें तत्काल वापस लाने के उपाय किये जा रहे हैं।

अम्फान (Amphan) चक्रवाती तूफान का सबसे अधिक असर केरल के तटीय इलाकों में देखने को मिलेगा। इसके अलावा दिल्ली, एनसीआर, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार, मणिपुर, त्रिपुरा, मेघालय, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, केरल, कर्नाटक, मध्य महाराष्ट्र, उत्तरी ओड़िशा, अंडमान निकोबार, जम्मू कश्मीर, लद्दाख, राजस्थान, तटीय आंध्र प्रदेश, आंतरिक तमिलनाडु में भारी बारिश की आशंका जाहिर की गई है। दक्षिण व केंद्रीय बंगाल की खाड़ी में 15 मई की शाम से 55 से 65 किमी, 16 मई को 75 किमी प्रति घंटा की तेज हवाएं चल सकती है।

मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा के मुताबिक निम्न दबाव की वजह से 18 मई को ओडिशा के तटीय इलाकों में भारी बारिश की आशंका है। 19 और 20 मई को पश्चिम बंगाल में जोरदार बारिश हो सकती है। बंगाल की खाड़ी में मौसमी स्थितियां और वायुमंडलीय स्थितियों का आंकलन करते हुए वैज्ञानिकों ने आशंका जाहिर की है कि 24 घंटों में चक्रवाती तूफान अपना कहर बरपाना शुरू कर देगा।

16 मई को अम्फान तटीय इलाकों पर हिट करेगा। इसके बाद आशंका जाहिर की जा रही है इसके 17 मई को उत्तर और उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने का। मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान के साथ अच्छी बात ये कही कि इस बार मॉनसून की प्रगति में ये तूफान मददगार साबित होगा। अम्फान (Amphan) चक्रवाती तूफान खास इसलिए भी है क्योंकि ये साल 2020 का पहला चक्रवाती तूफान होगा।

कोरोना के बीच प्राकृतिक आपदा की त्रासदी

भारत में जहां पूरा प्रशासनिक तंत्र कोरोना वायरस की त्रासदी से जूझ रहा है। वहीं अम्फान तूफान को लेकर भी सरकारी मशीनरी हरकत में है। माना जा रहा है कि बीते एक दशक में प्रकृति में बड़ा बदलाव आया है। पिछला दशक तापमान के लिहाज से सबसे अधिक गर्म रहा है। यहां तक कि धरती का तापमान 0.04 फीसदी बढ़ा है। आप अंदाजा लगा सकते हैं कि अगर एक फीसदी धरती का तापमान बढ़ जाए तो महा विनाश की स्थिति पैदा हो सकती है। जिसके चलते ही भूकंप और चक्रवाती तूफान जैसी परिस्थितियों से मानवता को सामना करना पड़ सकता है।

पृथ्वी की गर्भ में हो रही हलचल और प्लेट खिसकने के कारण वैश्विक स्तर पर भूकंप – सूनामी और ज्वालामुखी फटने की और जलवायु परिवर्तन के कारण चक्रवाती तूफान, अतिवृष्टि, सूखे के हालत पैदा होने की आशंकाएं जाहिर की जा रही हैं। तेज गर्मी और भीषण सर्दी में भारी बर्फबारी जैसी प्राकृतिक आपदाओं से भी लोगों को दो चार होना पड़ सकता है। भूगर्भीय हलचल के कारण रह रहकर भारत में धरती हिलने की खबरें आ रही हैं।


Share

Gulam Gaush

NNBLiveBihar डॉट कॉम न्यूज पोर्टल की शुरुआत बिहार से हुई थी। अब इसका विस्तार पूरे बिहार में किया जा रहा है। इस न्यूज पोर्टल के एडिटर व फाउंडर NNBLivebihar के सभी टीम है। साथ ही वे इस न्यूज पोर्टल के मालिक भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!