किसानों को मिल सकता है लाभ, अप्रेल में हुए ओलावृष्टि से…

Share

मक्का फसल को अप्रैल माह में हुई ओलावृष्टि से अलग रखना उचित नहीं और इसपर पुनर्विचार करने को कहा जिसको कृषि मंत्री ने मान लिया! बिहार के कृषि मंत्री प्रेम कुमार इन दिनों किसानों को लेकर काफी उत्साह व सजग दिखाई दे रहे हैं. वो लगातार किसानों को हो रही परेशानियों का जायज़ा भी ले रहे हैं. इसी क्रम में उन्होंने केंद्रीय कृषि राज्यमंत्री कैलाश चौधरी के साथ मिलकर प्रो अमरेन्द्र कुमार से जिले के कृषि एवं किसानों की समस्याओं के बारे में जानकारी हासिल की. इस प्रक्रिया को वीडियो कॉफ्रेंसिंग जरिए किया गया साथ ही समस्याएं एवं कृषि क्षेत्र के समक्ष उत्पन्न परिस्थितियों पर चर्चा की

इस अवसर पर जिले के मक्का किसानों के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि उनके फसल को अप्रैल माह में हुई ओलावृष्टि से अलग रखना उचित नहीं और इसपर पुनर्विचार करने को कहा जिसको कृषि मंत्री ने मान लिया. बिहार के कृषि मंत्री द्वारा केन्द्रीय कृषि राज्यमंत्री को राज्य के पान, फूल, लीची उत्पादक किसानों को उत्पाद परिवहन में आने वाली समस्याओं और खर्च की ओर ध्यान आर्किषत किया. उन्होंने किसानों द्वारा उठाए जा रहे परिवहन व्यय के बारे में कहा कि अभी इन उत्पादों में यह व्यय 80 रुपये प्रति किलोग्राम आ रहा है जिसे अगर केंद्र एवं राज्य के द्वारा आधा-आधा बांट लिया जाए तो इन सभी उत्पादक किसानों को एक मदद मिलेगी.

फसली ऋण के बारे में उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में किसान क्रेडिट कार्ड एवं फसली ऋण पर तीन माह तक भुगतान की छूट को मंजूरी मिल चुकी है और जल्द ही इसे एक वर्ष तक बढ़ाए जाने पर विचार चल रहा है. उन्होंने फल एवं सब्जी उत्पादक किसानों के बारे में बात करते हुए कहा कि इनके लिए प्रतिदिन मंडियों के बाजार भाव जारी करने की जानकारी भी दी. इस सुविधा से किसानों को सुबह उठकर जाना या फोन करने की जरूरत नहीं होगी.

बता दें कि बिहार में पिछली बार चमकी बुखार की अफवाओं से लीची के किसानों को काफी नुकसान हुआ था वहीं इस बार सरकार नहीं चाहती कि कोरोना की वजह से किसानों को नुकसान हो.


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!