मजहरूल और रियाज ने मिलकर मुजफ्फरपुर व वैशाली में फैलाया पीएफआई का नेटवर्क

Share

मुजफ्फरपुर जिले के सकरा थाना अंतर्गत बरियारपुर ओपी क्षेत्र के खालिक नगर गौरिहार गांव के मजहरूल हक एवं वैशाली के कटहरा ओपी क्षेत्र अंतर्गत ताल सिहान उर्फ छोटकी छपरा गांव के रेयाज ने मिलकर मुजफ्फरपुर एवं वैशाली में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया का नेटवर्क फैलाने का काम किया । दोनों ने मिलकर छोटी-छोटी समस्याओं को मुद्दा बनाया तथा समस्या के समाधान के लिए फ्रंट के लोगों को आगे बढ़ाया । सार्वजनिक जगहों पर फ्रंट के नेताओं की बैठक न कर ताल सिहान छपरा के एक मस्जिद में बैठकों को आयोजित किया जाता रहा । बैठक में मुजफ्फरपुर एवं वैशाली के लोगों को जुटाकर समस्याओं पर चर्चा होती थी तथा उसका निराकरण कर लोगों के बीच फ्रंट से जुड़ने के लिए दावत दी जाती थी । लोगों के बीच समरस व्यवस्था कायम रहे इसके लिए दहेज विरोधी तकरीर होती थी दहेज लेना और देना दोनों तरह की व्यवस्था पर पाबंदी के लिए मजहर उल इस्लाम को आगे बढ़ाया जाता था क्षेत्र में इस दिशा में काम भी किया गया। फ्रॉड से जुड़कर लोगों ने दहेज को नकारा धीरे-धीरे छोटे तबके के लोगों के बीच फ्रंट ने अपनी पहचान कायम की मजहरुल इस्लाम छपरा के मस्जिद में इमामत की तथा मदरसा में बच्चों को तालीम देना शुरू किया परंतु जब कभी भी फ्रंट की बैठक होती थी उसमें मजहर उल इस्लाम जरूर शिरकत करते थे रियाज ने फ्रंट के सहारे जिला परिषद से लेकर विधानसभा के चुनाव तक सफर तय किया यह अलग बात है कि उसे किसी भी चुनाव में सफलता नहीं मिली लेकिन लगातार चुनाव लड़ते रहने के कारण लोगों के बीच उसने अपनी पहचान कायम कर ली अपनी पहचान के बदौलत ही उसने लोगों को फ्रंट के साथ जोड़ना शुरु कर दिया ।मुजफ्फरपुर ,समस्तीपुर एवं वैशाली क्षेत्र के लोगों को जोड़कर उसने फ्रंट के काम को आगे बढ़ाया ।वर्ष 2011 में रेयाज ताल सिहान स्थित मदरसा एवं शमशान की भूमि का विवाद खड़ा करने में सफल रहा। इसमें उन्होंने गांव के लोगों को आपस में ही बांटने का काम किया एक ही समुदाय के लोग कई हिस्सों में बट गए । हालांकि इस काम में रेयाज को काफी सफलता मिली। वर्ष 2019 में मस्जिद के पास रास्ता विवाद में बगल गीर मोहम्मद नसीम के साथ मारपीट की थी जिसमें रेयाज का कद बढा था लोगों में दहशत कायम हुई थी । छोटी-छोटी समस्याओं के समाधान के साथ धीरे धीरे रेयाज का कारवां बढ़ता गया । इसी कड़ी में उसने वर्ष 2010 में महुआ प्रखंड के जिला परिषद क्षेत्र संख्या 10 से जिला परिषद का चुनाव लड़ा हालांकि उसमें उसको सफलता नहीं मिल पाई लेकिन वह फ्रंट के साथ लोगों को जोड़ने का काम करता रहा ।वर्ष 2015 एवं वर्ष 2020 में महुआ में विधानसभा का चुनाव लड़ा परंतु उनकी हार हो गई। लगातार चुनाव लड़ने तथा लोगों के साथ मिलते-जुलते रहने के कारण फ्रंट में उनका कद बढ़ता चला गया । रेयाज व मजहर उल इस्लाम वैसे लोगों को फ्रंट के साथ जोड़ना शुरु किया जिनको समाज में तिरस्कृत किया जाता था लोगों को न्याय नहीं मिलती थी तो वे लोग अपनी समस्या फ्रंट के सदस्यों के साथ रखते थे । आसपास में रियाज के दहशत के कारण फ्रंट के सदस्यों को किसी तरह की समस्या नहीं होती थी। मजहरुल इस्लाम के गांव खालिक नगर गौरिहार में किसी तरह की एक्टिविटी नहीं होती थी जिस कारण लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होती थी । हालांकि गौरीहार से सटे कई पंचायतों में बैठक आयोजित की जाती थी । बीते अप्रैल माह में रेयाज एवं मजहरुल इस्लाम के गांव में खुफिया एजेंसी की टीम पूछताछ के लिए पहुंची थी जिसमें उन लोगों के बारे में जानकारी हासिल की थी दोनों के बारे में कई जनप्रतिनिधियों से भी पूछताछ चली थी । एजेंसी ने दोनों की कार्यशैली को देखते हुए उसका खाका तैयार किया था। इसी कड़ी में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के द्वारा देशद्रोही कार्य करने के कारण 26 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई जिसमें सकरा एवं ताल सिहान छपरा के 2 लोग का नाम शामिल हैं ।अभी तक दोनों की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है । गांव में आज भी दहशत है । चौक चौराहे पर दोनों के बारे में चर्चाएं आम है ।कोई मजहरुल को सही बताता है तो कोई गलत । रेयाज के संदिग्ध गतिविधि के बारे में लोगों को मलाल है।


Share

Vikash Mishra

NNBLiveBihar डॉट कॉम न्यूज पोर्टल की शुरुआत बिहार से हुई थी। अब इसका विस्तार पूरे बिहार में किया जा रहा है। इस न्यूज पोर्टल के एडिटर व फाउंडर NNBLivebihar के सभी टीम है। साथ ही वे इस न्यूज पोर्टल के मालिक भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!