हाल में लागातर बिहार के कुलपति व प्रतिकुलती के इस्तीफे की उच्चस्तरीय जांच – रौशन आइसा

Share

विवि में पुस्तकों घोटाले को लेकर आइसा के सदस्यों ने मुख्यमंत्री का पुतला दहन, नारेबाजी।

विभिन्न विश्वविद्यालयों को लूट का अड्डा बनाना बंद करे सरकार – रौशन कुमार।

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन ( आइसा) के राज्य व्यापी आवाहन पर ललित नारायण मिथिला विवि के कुलापति प्रो एसपी सिंह सहित हाल में बहाल सभी कुलपति के नियुक्ति व कार्यकाल की उच्चस्तरीय जांच कराने,हाल में लागातर बिहार के भीतर कुलापति व प्रतिकुलती के इस्तीफे की भी जांच कराने, बिहार के सभी विवि पुस्तक खरीद बिक्री की जांच, बिहार के सभी विवि के कुलपति की संपत्ति की जांच, आर बी फ़ारसी विवि में हुए कॉपी खरीद बिक्री की उच्च स्तरीय जांच कराने, बिहार वीवी के डिजिटली डाटा गड़बड़ी, मिथिला व बिहार को बदनाम करने वाले मिथिला व बिहार विवि के कुलपति को बर्खास्त करने व उनकी संपत्ति की जांच करने की मांग को लेकर आज आइसा के द्वारा सकरा में प्रतिरोध व पुतला दहन किया गया। तथा सरकार व विवि प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की गई।

इस अवसर पर आइसा नेता विक्की कुमार के अध्यक्षता में आयोजित सभा को सबोधित करते हुए आइसा राज्य कार्यकारिणी के सदस्य रौशन कुमार ने कहां बिहार में कुलपति की नियुक्ति में राज भवन के संरक्षण में लंबे समय से अनियमितता चल रही हैं। बिहार ऊपर भ्रष्टाचारी यूपी मॉडल को थोपा जा रहा है। बिहार के अंदर लगागतर कुलपति के घोटाले की खबर आ रही है। और जब इसकी जांच की बात होती है तो एक अधिकारी के समकक्ष लोगो को ही जांच टीम में सदस्य व अध्यक्ष बना दिया जाता हैं जिससे कि जांच पूरे तौर पर प्रभावित होता है। एक कुलपति के खिलाफ बनी जांच में दूसरे विवि के कुलपति को सदस्य व जांच टीम का अध्यक्ष बना दिया जाता है। जिससे कि जांच रिपोर्ट पर सवालिया निशान है।

आइसा नेता ने कहा कि राजभवन व कुलपति के बीच जो रिश्ता बना हुआ है उसका खुलासा होना चाहिए। साथ ही साथ ललित नारायण मिथिला विवि के कुलापति प्रो एसपी सिंह सहित हाल में बहाल सभी कुलापति के नियुक्ति व कार्यकाल हो उच्चस्तरीय जांच होनी चाहिए।

वही आइसा नेता मो. मुजम्मिल ने कहा कि बिहार विवि के कुलपति ने बिहार को बदनाम कर दिया है। विवि को भर्ष्टाचार के हवाले कर दिया हैं। जब किसी गंभीर आरोप सिद्ध होता है उन्हें बर्खास्त करने के बदले मौन हो जाते हैं। जिससे कि साफ- साफ स्पष्ट होता है की किस तरीके से बिहार यूनिवर्सिटी का नाम बदनाम किया जा रहा है दिन प्रतिदिन वीवी कॉलेजों के माध्यम से फीस में लगातार वृद्धि कर रही है, कॉलेजों के माध्यम से SC, ST छात्र व छात्राओं से धांधली तरीकों से वसूली करवा रही है, और कोर्ट की आदेशों की धज्जियां उड़ा रही है।

इस अवसर पर आइसा धर्मेंद्र कुमार, विक्की कुमार, राजा कुमार, रौशन कुमार, मो. मुजम्मिल, जितेंद्र कुमार, विनय कुमार, विकास कुमार सहित कई छात्र-छात्रा शामिल थे।


Share

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!