मृत डॉक्टर के नाम से चल रहा दो अल्ट्रासाउंड सेंटर:19 जून को ही हो गई थी डॉक्टर की मौत, लेकिन उनके नाम पर धड़ल्ले से चल रहा था सेंटर; दूसरे डॉक्टर के नाम से दी जा रही रिपोर्ट

Share

पूर्वी चंपारण जिले का स्वास्थ्य विभाग हमेशा सुर्खियों में रहता है। एक बार फिर से यह विभाग चर्चा का विषय बना हुआ है, क्योंकि यहां के दो रजिस्टर्ड अल्ट्रासाउंड सेंटर मृत डॉक्टर के नाम से चल रहा है। इस मामले को लेकर डीएम और सिविल सर्जन (CS) ऑफिस को लिखित शिकायत दी गई है। मृत डॉक्टर के नाम से निकले रजिस्ट्रेशन नंबर पर अल्ट्रासाउंड सेंटर का चलना गंभीर मामला है।

इस मामले की जानकारी होने के बाद डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने मामले की गंभीरता को देखते हुए दो सदस्यीय जांच टीम गठित की है। उन्होंने पीजीआरओ सदर और एसीएमओ के नेतृत्व में जांच टीम का गठन किया है। साथ ही जांच टीम को पूरे मामले की जांच कर रिपोर्ट सौंपने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया कि जांच सही आने पर संबंधित लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

डॉक्टर की मौत के बाद भी चल रहा था अल्ट्रासाउंड सेंटर

पचपकड़ी व पकड़ीदयाल में डाॅ. वीके सिंह के नाम से अल्ट्रासाउंड सेंटर चलाने के लिए सीएस ऑफिस से रजिस्ट्रेशन नंबर निर्गत है। इस पर दो अल्ट्रासाउंड सेंटर चल रहा है। इसमें पचपकड़ी में चल रहे अल्ट्रासोनोग्राफी सेंटर का रजिस्ट्रेशन नंबर 129/19 तथा पकड़ीदयाल मानव अल्ट्रासाउंड सेंटर का रजिस्ट्रेशन नंबर 107/19 है। दोनों सेंटर को डाॅ. वीके सिंह चलाते थे। 19 जून को डाॅ. वीके सिंह की मौत होने के बाद भी यह दोनों सेंटर धड़ल्ले से चल रहा है।

दूसरे नाम से दी जा रही जांच रिपोर्ट

डाॅ. वीके सिंह की मौत हो जाने के बाद भी रजिस्ट्रेशन नंबर रद्द नहीं किया गया है। इस कारण दोनों अल्ट्रासाउंड सेंटर बेधड़क चल रहा है। जांच के बाद केवल जांच रिपोर्ट दूसरे डॉक्टर के नाम से दी जा रही है, जिस पर जांच का डेट अंकित नहीं है। इससे सिविल सर्जन ऑफिस की भूमिका पर भी सवाल उठना लाजिमी है।


Share

Vikash Mishra

NNBLiveBihar डॉट कॉम न्यूज पोर्टल की शुरुआत बिहार से हुई थी। अब इसका विस्तार पूरे बिहार में किया जा रहा है। इस न्यूज पोर्टल के एडिटर व फाउंडर NNBLivebihar के सभी टीम है। साथ ही वे इस न्यूज पोर्टल के मालिक भी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!